अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस / हिंदी दुनिया में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली तीसरी भाषा, बंगाली सातवें और उर्दू 11वें स्थान पर




एजुकेशन डेस्क. हम में से बहुत से ऐसे लोग है, जो इंग्लिश ना आने और हिंदी बोलने के कारण खुद को दूसरों से कमतर मानते हैं। यहीं नहीं कुछ तो ऐसे भी है जो हिंदी बोलने पर शर्मिंदगी महसूस करते है और इसे अपनी नाकामियाबी की वजह मानते हैं। लेकिन आज भी देश और दुनिया में ऐसे कई लोग है, जो हिंदी से ना केवल प्रेम करते हैं, बल्कि इस पर गर्व भी करते हैं। उन्हीं लोगों के प्यार और विश्वास के कारण आज हिंदी दुनिया की तीसरे नंबर की सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा बन गई है। आज दुनिया भर में बोली जाने वाली सभी भाषाओं में हिंदी तीसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है।

 

61.5 करोड़ लोगों की भाषा हिंदी 
अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के अवसर पर जारी वर्ल्ड लैंग्वेज डेटाबेस के 22वें संस्करण इथोनोलॉज के मुताबिक दुनियाभर की 20 सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में 6 भारतीय भाषाएं शामिल हैं, जिनमें हिंदी तीसरे स्थान पर है। इथोनोलॉज में बताया गया कि दुनियाभर में 61.5 करोड़ लोग हिंदी भाषा का इस्तेमाल करते हैं।

 

अंग्रेजी ने पाया पहला स्थान
इथोनोलॉज के संस्करण में बताया गया कि दुनियाभर में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में पहला स्थान अंग्रेजी का है, जिसे पूरी दुनिया में 113.2 करोड़ लोग बोलते हैं। वहीं, दूसरे स्थान पर चीन में बोली जाने वाली मैंड्रेन भाषा है, जिसे 111.7 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं। जबकि चौथे नंबर पर 53.4 करोड़ लोगों के साथ स्पेनिस और 28 करोड़ लोगों के साथ पांचवें नंबर पर फ्रेंच भाषा है।

 

दुनिया की 20 भाषाओं में 6 भारतीय भाषाएं शामिल
वैसे दुनिया की 20 सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं की बात करें तो उनमें 6 भारतीय भाषाएं शामिल हैं। इनमें हिंदी के बाद बंगाली भाषा सातवें  पायदान पर है, जिसे 26.5 करोड़ लोग बोलते है। इसके अलावा 17 करोड़ लोगों के साथ 11वें नंबर पर उर्दू, 9.5 करोड़ लोगों के साथ 15वें स्थान पर मराठी, 9.3 करोड़ के साथ 16वें नंबर पर तेलगू और 8.1 करोड़ लोगों के साथ तमिल भाषा 19वें पायदान पर है।